Thursday, March 13, 2008

ye main hun.. हूँ ये मैं हूँ......

अपने डिपार्टमेन्ट की सीढियों पर बैठे बैठे सब को देखना ओर कुछ सोचते रहना हमेशा से पसंद रहा है. क्लास केबाद सबके अपने अपने मश्गले हैं..कुछ अपने ग्रुप के साथ मस्ती करते हैं तो कुछ कैन्टीन में वक्त गुजारतेहैं.कई क्लास fellows हैं जिनके बीच कुछ ख़ास(स्पेशल) सा रिश्ता है,वो इस कीमती समय को भला कहाँ शेयरकरेंगे.

कुछ मेरे जैसे पागल भी हैं जो किताबो के कीडे कहलाते हैं,ओर इन्ही के साथ जीते ओर मरते हैं.

डिपार्टमेन्ट की सीढियों पर बैठ कर पढ़ना ओर बाकी के समय में सबको निहारते रहना बहोत अच्छा लगताहै.ऐसे में मुझ जैसी thinker या बकोल मेरी friends केथोडी सी पागलके लिए सोचो के जाने कितने दर खुलजाते हैं.

ये सोचें भी अजीब होती हैंइन की कोई सीमा नही कोई हद नहीज़मीन से लेकर आसमानों तक कही भीजासकती हैंकभी किसी के साथ तो कभी अकेले,तनहापर कितनी सच्ची दोस्त होती हैंजब कोई नहीहोता,,,जब सब दूर हो जाते हैं तब भी ये सहेली हम से दूर नही होती,,कितना भी neglect करो..कितना भी पीछाछुदाओये पीछा छोड़ने वालो में से नही हैं….

लेकिन यही तो है जो हमें जीने का अहसास कराती है,,हम इंसान हैं,,हम जी रहे हैं..सिर्फ़ अपने लिए नहीदूसरोके लिए भीहमारे ये अहसास ही याद दिलाते रहते हैं.......

आगे फिर कभी ..........

15 comments:

आशीष said...

पुराने दिन याद‍ दिलाने के लिए शुक्रिया

चक्करघिन्नी said...

आप अच्छा तो लिख रही है लेकिन और अच्छा तब रहेगा जब आप कुछ विषय लें और उस पर लिखना शुरु करें... मन के विचार अवश्य लिखें पर कोशिश करें कि वो कहीं विषय से हट न जाए....

Anonymous said...

hi,
main Ravi Rawat from Mumbai. maine aapke pichle blog main aapki Kavita padhi jo bahut achchi lagi. main bhi ek Writer hoon lekin aapse achcha nahin. likhte rahiye... good luch.

rakhshanda said...

@aashish-thanks

rakhshanda said...

@chakkarghinni-sir,i dont understand that wat do u want to say...pls kya aap mujhe achhi tarah samjhayenge?
i m very new in this world..so mujhe aapke mashviro ki bahot zaroorat hai..hosakta hai aapke keemti mashvire mujhe aor achha likhne ka raasta dikha saken..so pls write in detail...

rakhshanda said...

@benami...thank u

चक्करघिन्नी said...

कृपया मुझे अपना ई-मेल आई.डी. दें ताकि आपको कुछ अन्य विषयों पर लिखने के लिये विस्तृत जानकारी दी जा सके।

rakhshanda said...

thanks sir...my id is rubyrizvi786@gmail.com..

mindtwister said...

aslkm, i saw ur blog, thru bhadas link, it gives me some feel like morning breeze, i am journalist presntly associated with a leading hindi daily at meerut, i have a too a blog. livingtobedead.blogspot.com, to understand me, it will be better if u plz visit over there, i will appriciate if leave a comment over it. there r many things(like ur name), i would like to disscus u, but after some time. first read me and reply, if u wish to get some genuine people around u.
waiting for ur response.
khuda hafiz
hayatumar@rediffmail.com

rakhshanda said...

@mindtwister-I liked reading about u .I think that u r wrong that only ur heart cries . These are not only ur wishes they are also the wishes of other middle class people. They wish they even dream but they don’t know their selves if their dreams & wishes will ever come true. Anyway I hope u will continue writing like this.

mindtwister said...

aslkm, thanx for going on my blog, soon i will add the last topic ........a fiery soul. rxnda this not about what i wish and cant get, it is about what i was detinied against my will. it is long story...... now i am puzzeld and confused ..what is life and why i am bearing it. any way i hope we will remain in contact. i will be happy if u mail me, and tell me more abouy urself. haan aapke naam main zaroor kuch khas hai, kya hai ye main fir kabhi bataonga.
allah hafiz
hayatumar@rediffmail.com

mindtwister said...

rxanda, will u plz reply

rakhshanda said...

@mindtwister....ya why not...

mindtwister said...

life is a game
i had already losen
living in a world
i had never choosen
a forced journy
pushing me towards death
as i am exposed to an open ocean
pulling me towrds depth
..and no chance to be risen


hayatumar@rediffmail.com

yaksh said...

वाकई! हम कहाँ अकेले होते है,सब कुछ जो घटा है,सब कुछ जिसके घटने की आशंका है,हर व्यक्ति जो मिला,मिल सकता है,सारे महत्वपूर्ण क्षण सदैव साथ होते है, साँस लेते है,बात करते है,as you said आखिर इंसा है। बढिया है।